हिम गंगा योजना से बढ़ेगी हिमाचल के किसानों की आमदनी, अच्छी कीमत पर दूध खरीदेगी सरकार

Him Ganga Yojana – राज्य के पशुपालक एवं किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा 24 मार्च 2023 को अपना पहला वित्तीय वर्ष 2024-25 बजट पेश करते हुए पशुपालन क्षेत्र के लिए एक बड़ी घोषणा की गई है। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू द्वारा सदन में हिम गंगा योजना को शुरू करने की घोषणा की गई है। इस योजना के माध्यम से राज्य के किसानों से उचित मूल्य दूध खरीदा जाएगा। जिससे दूध की खरीद में बढ़ोतरी होगी। साथी किसानों और पशुपालकों की आय में वृद्धि की जा सकेगी। अगर आप Him Ganga Yojana से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो आपको यह आर्टिकल विस्तारपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा। क्योंकि आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से हिम गंगा योजना क्या है? इसके उद्देश्य, लाभ एवं विशेषताएं, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज एवं आवेदन प्रक्रिया से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराएंगे।

Him

Him Ganga Yojana 2024

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू जी द्वारा हिम गंगा योजना 2024 की शुरुआत की गई है। इस योजना के माध्यम से राज्य के पशुपालक एवं किसानों की आमदनी सुधार किया जाएगा। हिमगंगा योजना के माध्यम से दूध पर आधारित अर्थव्यवस्था को विकसित किया जाएगा। सरकार द्वारा किसानों एवं पशुपालक से इस योजना के तहत अच्छी कीमत पर दूध खरीदा जाएगा। जिससे किसानों को दूध का सही मूल्य मिल सकेगा और दूध खरीद व वितरण की व्यवस्था में भी सुधार आएगा। पहले चरण में हिमगंगा योजना को राज्य के कुछ जिलों में शुरू किया जाएगा। योजना के सफल होने पर इसे पूरे राज्य में लागू कर दिया जाएगा। Him Ganga Yojana के तहत किसानों एवं पशुपालकों को जोड़कर पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर शुरू किया जाएगा। इसके अलावा हिमगंगा योजना को सफल बनाने के लिए राज्य में नए मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित किए जाएंगे। जिससे दूध की खरीद, प्रोसेसिंग और मार्केटिंग की व्यवस्था में गुणवत्ता सुधार लाया जा सकेगा।

हिमाचल प्रदेश मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना

हिमाचल प्रदेश हिम गंगा योजना के बारे में जानकारी

योजना का नाम Him Ganga Yojana
घोषणा की गई हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा
लाभार्थी राज्य के किसान एवं पशुपालक
उद्देश्य किसानों एवं पशुपालकों को दूध की उचित कीमत प्रदान करना
बजट राशि 500 करोड़ रुपए
राज्य हिमाचल प्रदेश
साल 2023
आवेदन प्रक्रिया अभी उपलब्ध नहीं
आधिकारिक वेबसाइट जल्द लॉन्च होगी

Himachal Him Ganga Scheme का उद्देश्य

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा गंगा योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के किसानों एवं पशुपालकों को दूध की उचित कीमत प्रदान करना है। जिससे किसानों की आय में वृद्धि हो सकेगी। इसके लिए सरकार द्वारा राज्य के किसानों एवं पशुपालकों से दूध खरीदा जाएगा। सांची दूध खरीद प्रोसेसिंग और मार्केटिंग की व्यवस्था में भी गुणवत्ता सुधार किया जाएगा।

हिम गंगा योजना के लिए 500 करोड़ रुपए का बजट

मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू द्वारा वित्तीय वर्ष 2024-25 का बजट पेश किया गया है। इस बजट को पेश करने के दौरान हिम गंगा योजना के कार्यान्वयन के लिए 500 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। जिसके आधार पर योजना की रूपरेखा तैयार की जाएगी। जिससे राज्य किसान और पशुपालकों को हिम गंगा योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित किया जा सकेगा। अर्थात हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के किसानों एवं पशुपालकों की आय में वृद्धि करने एवं उनका कल्याण करने के लिए 500 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

हिमाचल प्रदेश राशन कार्ड

Him Ganga Yojana के लिए सभाओं का किया जाएगा गठन

हिम गंगा योजना को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए राज्य में सभाओं का गठन किया जाएगा। इस योजना के तहत दूध उत्पादक सहकारी सभाओं को गठित किया जाएगा। दूध उत्पादक सहकारी सभाओं के माध्यम से किसानों को दूध की उचित कीमत प्रदान की जाएगी। जिससे राज्य में इस योजना को गतिशीलता प्रदान होगी और किसानों को दूध की उचित कीमत मिलने से उनकी आय में वृद्धि होगी। इसके अलावा हिमगंगा योजना के लिए मिल्क प्रोसेसिंग यूनिट की स्थापना की जाएगी डेयरी प्रोडक्ट की टेक्नोलॉजी को स्थापित किया जाएगा। साथी जो राज्य में मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट विकसित है उन्हें अपग्रेड किया जाएगा।

हिम गंगा योजना 2024 के लाभ एवं विशेषताएं

  • हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू जी द्वारा हिम गंगा योजना को शुरू करने की घोषणा की गई है।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य से किसान एवं पशुपालकों को लाभान्वित किया जाएगा।
  • हिम गंगा योजना के तहत सरकार द्वारा किसानों से उच्च मूल्य पर दूध खरीदा जाएगा। ताकि राज्य के पशुपालक समृद्ध हो सके।
  • Him Ganga Yojana के माध्यम से दूध खरीद, प्रोसेसिंग, मार्केटिंग की व्यवस्था में गुणवत्ता सुधार किया जाएगा।
  • राज्य सरकार द्वारा इस योजना के संचालन के लिए 500 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है।
  • पहले चरण में इस को राज्य के कुछ क्षेत्रों के किसानों एवं पशुपालकों को पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर जोड़कर शुरू किया जाएगा।
  • सफलतापूर्वक परिणाम आने पर हिम गंगा योजना को पूरे राज्य में लागू कर दिया जाएगा।
  • इस योजना को सफल बनाने के लिए नये मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित किए जाएंगे और वर्तमान में जो प्लांट स्थापित है उन्हें अपग्रेड किया जाएगा।
  • Him Ganga Yojana के लिए सभी आवश्यक इंस्ट्रक्चर और सप्लाई चेन को योजनाबद्ध रूप से स्थापित किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में दूध के उत्पादन में वृद्धि होगी।
  • राज्य के नागरिकों का शुद्ध दूध मिल सकेगा।
  • यह योजना किसानों एवं पशुपालक की आर्थिक स्थिति में वृद्धि करेगी।

Doodh Ganga Yojana

Him Ganga Yojana 2024 के लिए पात्रता

  • हिम गंगा योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक को हिमाचल प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक को पशुपालक एवं किसान होना चाहिए।

हिम गंगा योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Him Ganga Yojana 2024 के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया

अगर आप हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किए गए हिमगंगा योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो अभी आपको थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि फिलहाल अभी राज्य सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करने की घोषणा की गई है। सरकार द्वारा हिम गंगा योजना को लागू नहीं किया गया है। और ना ही आवेदन से संबंधित जानकारी सार्वजनिक की गई है। जैसे ही सरकार द्वारा हिमगंगा योजना को लागू किया जाएगा। तो हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सूचित कर देंगे। ताकि आप इस योजना के तहत आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सकें।

हिम गंगा योजना के लिए हेल्पलाइन नंबर

Him Ganga Yojana दिल्ली सरकार द्वारा जल्द ही हेल्पलाइन नंबर शुरू किया जाएगा। जिसके बाद राज्य के किसान एवं पशुपालक हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर हिम गंगा योजना से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा किसी आवेदक को हिम गंगा योजना के तहत ऑनलाइन फॉर्म भरते समय कोई समस्या आती है तो उस समस्या का समाधान भी लिया जा सकेगा।


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *