मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना शुरू हुई, हफ्ते में 2 दिन मिलेगा बच्चों को दूध

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana – ग्रामीण इलाकों के बच्चों को पर्याप्त पोषण युक्त भोजन ना मिल पाने के कारण उन में कुपोषण की कमी हो जाती है। यह समस्या अधिकतर प्राइमरी स्कूल में पढ़ रहे बच्चों में पाई जाती है। सरकार द्वारा मिड डे मील जैसी योजनाएं भी पोषण के लिए चालू की गई है। लेकिन अभी भी बच्चों में एनीमिया कैल्शियम आदि की कमी पाई जाती है। इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार द्वारा 2022-23 के बजट में मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2024 की शुरुआत की गई है। इस योजना का शुभारंभ राज्य स्तर पर मुख्यमंत्री द्वारा जयपुर में किया गया। Mukhyamantri Bal Gopal Yojana के तहत कक्षा एक से 8 तक के बच्चों को निशुल्क दूध उपलब्ध कराया जाएगा। आज हम आपको मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना से संबंधित संपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे। इसलिए आपको यह आर्टिकल विस्तार पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

Mukhymantri

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana 2024

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2024 का शुभारंभ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा 29 नवंबर 2022 को सिविल लाइन जयपुर में किया गया। पूरे राजस्थान में एक साथ योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को मिड डे मील के अलावा दूध उपलब्ध कराया जाएगा। सप्ताह में दो बार अर्थात मंगलवार और शुक्रवार को बच्चों को दूध उपलब्ध कराया जाएगा। मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को 15 ग्राम पाउडर दूध से 150 मिलीमीटर दूध और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिए 20 ग्राम पाउडर दूध से 200 मिलीमीटर दूध स्कूलों द्वारा पीने के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana के तहत मिड डे मील से जुड़े राज्य के विद्यालय, प्राइमरी विद्यालय, मदरसों, विशेष प्रशिक्षण केंद्रों में राज्य सरकार द्वारा पाउडर वाला दूध उपलब्ध कराया जाएगा। राजस्थान कोऑपरेटिव डेयरी फाउंडेशन से पाउडर मिल्क की खरीद की जाएगी।

राजस्थान मुख्यमंत्री उच्च शिक्षा छात्रवृति योजना

20th June Update – मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना से राज्य के 69 लाख बच्चों को मिल रहा पौष्टिक दूध

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा मिड डे मील योजना में पौष्टिक दूध की दृष्टि से नवंबर 2022 में बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य समुचित विकास के लिए मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना के माध्यम से राज्य के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को सप्ताह में 2 दिन पौष्टिक दूध दिया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत करीब 69 लाख 22 हजार बच्चों को मिल्क पाउडर से तैयार दूध सप्ताह में 2 दिन बुधवार एवं शुक्रवार को उपलब्ध करवाया जा रहा है। यदि स्कूलों में बुधवार और शुक्रवार को किसी कारण से अवकाश होता है तो अगले शैक्षणिक दिवस पर बच्चों को दूध उपलब्ध करवाया जाता है। अब बच्चों को इस योजना के माध्यम से विद्यालय में गुणवत्ता शिक्षा के साथ-साथ जरूरी पोषक तत्व भी मिल रहे हैं।

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana के तहत राजकीय विद्यालयों, संस्कृत विद्यालयों एवं मदरसों में विद्यार्थियों को सप्ताह में 2 दिन उपलब्ध करवाया जा रहा है। इस योजना के माध्यम से राज्य के नौनिहाल स्वस्थ होगे एवं भावी करणकारों का मानसिक विकास भी हो सकेगा। राजकीय विद्यालय में बच्चों की उपस्थिति में भी इस योजना के माध्यम से अपेक्षाकृत बढ़ोतरी हुई है। राजस्थान सरकार की इस योजना का लाभ यह भी है कि बच्चों के परिजन बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित होगा जिससे स्कूलों में नामांकन बढ़ेगा तथा बच्चों को ड्रॉपआउट रोकने में भी मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री निवास से मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना एवं मुख्यमंत्री निःशुल्क यूनिफॉर्म वितरण योजना का शुभारंभ किया। इस दौरान उपस्थित विद्यार्थियों को यूनिफॉर्म वितरित की।
1/2 pic.twitter.com/zOs9Oy56fW — Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) November 29, 2022

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना 2024 के बारे में जानकारी

योजना का नाम Mukhyamantri Bal Gopal Yojana
शुरू की गई मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा
शुभारंभ 29 नवंबर 2022
उद्देश्य छात्र-छात्राओं को पोषण प्रदान करने के लिए दूध का वितरण करना
लाभार्थी कक्षा 1 से 8 तक के बच्चे
राज्य राजस्थान
साल 2023

राजस्थान स्कॉलरशिप योजना

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana का उद्देश्य

राजस्थान सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना को प्रारंभ करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के विद्यालय, प्राइमरी विद्यालय, मदरसों, विशेष प्रशिक्षण केंद्रों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को पोषण प्रदान करने के लिए दूध का वितरण करना है। मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को कुपोषण से रोकने के लिए पाउडर मिल्क से तैयार दूध सप्ताह में दो बार उपलब्ध करवाया जाएगा। इस योजना के माध्यम से पाउडर मिल्क एवं आपूर्ति राजस्थान कोऑपरेटिव डेयरी फाउंडेशन लिमिटेड से किया जाएगा। प्रार्थना सभा के तुरंत बाद स्कूलों में बालों को को दूध पिलाया जाना है। निर्धारित दिन अवकाश होने पर अगले शिक्षक दिवस पर छात्र-छात्राओं को दूध पिलाया जाएगा। दूध से बच्चों के शारीरिक एवं मानसिक विकास में तीर गति होगी एवं बीमारियों से भी दूर रहेंगे। इस योजना के माध्यम से बच्चों को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन युक्त दूध मिलने से स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा।

Mukhyamantri

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत दूध की मात्रा

राजस्थान मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को मिड डे मील के साथ दूध भी उपलब्ध कराया जाएगा। राज्य सरकार द्वारा सप्ताह में दो बार मंगलवार और शुक्रवार को बच्चों को दूध उपलब्ध कराया जाएगा। राजस्थान के कक्षा 1 से 8 तक के छात्र छात्राओं को निर्धारित मात्रा के अनुसार दूध उपलब्ध कराया जाएगा।

कक्षा स्तर पाउडर मिल्क की मात्रा (प्रति छात्र) तैयार दूध की मात्रा (प्रति छात्र) चीनी की मात्रा
प्राथमिक (कक्षा एक से 5 तक) 15 ग्राम 150 मिलीमीटर 8.4 ग्राम
उच्च प्राथमिक (कक्षा 6 से 8 तक) 20 ग्राम 200 मिलीमीटर 10.2 ग्राम

Rajasthan Free Tablet Yojana

Mukhyamantri Bal Gopal Yojana के लाभ एवं विशेषताएं

  • बाल गोपाल योजना के माध्यम से मिड डे मील से जुड़े राजस्थान के विद्यालय, प्राइमरी विद्यालय, मदरसों, विशेष प्रशिक्षण केंद्रों में छात्र छात्राओं को दूध उपलब्ध कराया जाएगा।
  • Mukhymantri Bal Gopal Yojana के तहत राजस्थान के कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों को सप्ताह में 2 दिन अर्थात मंगलवार एवं शुक्रवार को मिल्क पाउडर उपलब्ध कराया जाएगा।
  • यदि इन दिनों किसी कारणवश अवकाश होता है तो उसके अगले दिन दूध का वितरण किया जाएगा।
  • मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को 15 ग्राम पाउडर दूध से 150 मिलीमीटर दूध और कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिए 20 ग्राम पाउडर दूध से 200 मिलीमीटर दूध स्कूलों द्वारा पीने के लिए उपलब्ध कराया जाएगा।
  • Mukhymantri Bal Gopal Yojana का वितरण मिड डे मील की सहायता से हर जिले में मिल्क पाउडर बांटा जाएगा एवं मिल्क पाउडर का वितरण आरसीडीएफ द्वारा प्रत्येक विद्यालय में जाकर किया जाएगा।
  • विद्यालय प्रबंधन की बच्चों को दूध देने की जिम्मेदारी होगी और दूध की गुणवत्ता को मापने की जिम्मेदारी विद्यालय प्रबंधन समिति तथा आरसीडीएफ की होगी।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त कर बच्चे मानसिक एवं शारीरिक रूप से मजबूत होंगे।
  • बाल गोपाल योजना के माध्यम से बच्चे स्कूल में दाखिला लेने के लिए प्रोत्साहित होंगे। जिससे शिक्षा ग्रहण करने में भी सुधार होगा।
  • इस योजना के माध्यम से राजस्थान के लगभग 60 लाख बच्चों को फायदा मिलेगा।
  • इस योजना के माध्यम से बच्चों को पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन युक्त दूध मिलने से स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा।

मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के लिए पात्रता

  • मुख्यमंत्री बाल गोपाल योजना के तहत मिड डे मील योजना से लाभान्वित प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों, मदरसों, स्पेशल ट्रेनिंग सेंटर में अध्ययनरत छात्र-छात्राएं पात्र होंगे।
  • इस योजना का लाभ केवल राजस्थान के कक्षा एक से आठवीं तक के बच्चों को प्रदान किया जाएगा।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *