उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2024 – ऑनलाइन आवेदन, लाभ, पात्रता

Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana – सरकार द्वारा निरंतर छोटे व्यवसाय के लिए विभिन्न प्रकार की सरकारी योजनाएं संचालित की जा रही है। ताकि अधिक से अधिक नागरिकों को बेहतर और कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिल सके। साथ ही उनके जीवन स्तर में सुधार हो सके। इसी प्रकार उत्तराखंड सरकार ने अपने राज्य के नागरिकों के लिए एक नई योजना को शुरू करने की मंजूरी दी है। जिसका नाम उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना है। इस योजना के माध्यम से राज्य में मछली पालन को बढ़ावा देने हेतु सरकार द्वारा मछली पालन का व्यवसाय करने वाले लोगों को 50% तक सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

अगर आप भी उत्तराखंड के निवासी हैं और मत्स्य पालन से जुड़े हैं तो आप इस योजना के तहत आवेदन कर सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैंं। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2024 से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराएंगे। इसलिए आपको यह आर्टिकल विस्तार पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

Uttarakhand

Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana 2024

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जी के द्वारा मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना को कैबिनेट बैठक में मंजूरी प्रदान कर दी गई है। इस योजना के माध्यम से राज्य के मत्स्य पालकों को मछली पालन का व्यवसाय करने हेतु सब्सिडी प्रदान की जाएगी। जिससे राज्य के मत्स्य पालकों को मछली पालन के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इससे लोगों को आसानी से रोजगार मिल सकेगा। मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के माध्यम से राज्य के कम से कम 4000 से अधिक लोगों को मत्स्य पालन से जोड़ा जाएगा। राज्य सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से मत्स्य पालकों को 2% ब्याज का अनुदान भी मिलेगा। जिसे इस योजना के तहत आगे भी बढ़ाया जा सकेगा। आपको बता दें कि आने वाले 5 साल तक इस योजना को पूरे राज्य में लागू कर दिया जाएगा।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री सौर स्वरोजगार योजना

उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2024 के बारे में जानकारी

योजना का नाम Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana
शुरू की गई उत्तराखंड सरकार द्वारा
लाभार्थी राज्य के मत्स्य पालक
उद्देश्य मछली पालन को बढ़ावा देने हेतु सब्सिडी प्रदान करना
राज्य उत्तराखंड
साल 2023
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन/ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइट जल्द लॉन्च होगी

Uttarakhand Matsya Sampada Yojana का उद्देश्य

उत्तराखंड सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य में मछली पालन को बढ़ावा देने हेतु सब्सिडी प्रदान करना है। ताकि राज्य के मत्स्य पालकों को मछली पालन का व्यवसाय करने हेतु सहायता मिल सके। इस योजना के माध्यम से महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप को भी सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा। यह योजना आने वाले सालों में मछली पालन के व्यवसाय में वृद्धि करेगी। जिससे राज्य में बेरोजगार दर में भी कमी हो सकेगी।

महिला समूह को मिलेगी 50% तक सब्सिडी

मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप को मत्स्य पालन का व्यवसाय शुरू करने के लिए राज्य सरकार द्वारा कुल लागत पर 50% की सब्सिडी प्रदान की जाएगी। इसके अलावा अगर कोई राज्य का नागरिक मत्स्य पालन का व्यवसाय करना चाहता है तो उन्हें अब तक केंद्र सरकार की ओर से 2% ब्याज सब्सिडी प्रदान की जा रही थी लेकिन अब लाभार्थियों को 3% ब्याज सब्सिडी राज्य सरकार की ओर से दी जाएगी। यानी की कुल मिलाकर मत्स्य पालन करने वाले नागरिकों को 5% सब्सिडी का लाभ मिलेगा।

वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना

मत्स्य पालकों को मिलेगा बीमा का लाभ

उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा मत्स्य पालकों को सरकार की ओर से बीमा का लाभ भी प्रदान किया जाएगा। जिसके लिए सरकार द्वारा 1 लाख रुपए का बीमा निर्धारित किया गया है। इसके अलावा प्रदान किया जाने वाले बीमे की प्रीमियम राशि लगभग 90% होगी। जोकि सरकार द्वारा वहन की जाएगी। ताकि अधिक से अधिक मत्स्य पालकों को लाभ मिल सके और लाभार्थियों पर ज्यादा प्रीमियम का बोझ ना पड़े।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2024 के लाभ एवं विशेषताएं

  • उत्तराखंड सरकार द्वारा मत्स्य पालन को मछली पालन करने हेतु बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप को मुझे पालन का व्यवसाय आरंभ करने हेतु 50% तक की सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • राज्य के नागरिकों को मत्स्य पालन का व्यवसाय शुरू करने के लिए 5% सब्सिडी सरकार की ओर से मिलेगी।
  • मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के माध्यम से कम से कम 4000 अधिक नए लोगों को लाभान्वित किया जाएगा।
  • यह योजना राज्य के मत्स्य पालकों को मछली पालन के लिए प्रोत्साहित करेगी।
  • इस योजना के माध्यम से मत्स्य पालकों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के लिए पात्रता

  • आवेदक को उत्तराखंड राज्य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने हेतु मत्स्य पालक एवं महिलाएं पात्र होंगे।

आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक पासबुक

उत्तराखंड मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना

उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2024 के तहत आवेदन कैसे करें?

जैसे कि हमने आपको पहले ही बताया है कि उत्तराखंड सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना को मंजूरी प्रदान की गई है। फिलहाल अभी इस योजना को लागू नहीं किया गया है और ना ही इस योजना के अंतर्गत आवेदन से संबंधित किसी प्रकार की जानकारी सार्वजनिक की गई है। जैसे ही उत्तराखंड सरकार द्वारा मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना को लागू किया जाएगा। तो इस योजना से के अंतर्गत आवेदन से संबंधित जानकारी भी सार्वजनिक कर दी जाएगी। फिलहाल अभी आपको इस योजना के लागू होने का इंतजार करना होगा तभी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सूचित कर सकेंगे कि आप किस प्रकार इस योजना के तहत आवेदन कर लाभ उठा सकते हैंं।

Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana FAQs

मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना किस राज्य में शुरू किया गया है? मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना को उत्तराखंड राज्य में शुरू किया गया है। Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के तहत लाभार्थी को कितनी सब्सिडी दी जाएगी? उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत लाभार्थी को सरकार द्वारा 50% तक की सब्सिडी दी जाएगी। उत्तराखंड मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के माध्यम से राज्य कितने लोगों को जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है? Uttarakhand Mukhyamantri Matsya Sampada Yojana के माध्यम से राज्य के कम से कम 4000 लोगों को मत्स्य पालन से जोड़ने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। मत्स्य पालकों को मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत कितने रुपए के बीमा का लाभ दिया जाएगा? मत्स्य पालकों को मुख्यमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत 1 लाख रुपए का बीमा प्रदान किया जाएगा। जिसकी प्रीमियम राशि 90% तक सरकार द्वारा वहन की जाएगी।


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *